Become a Defender of Justice and Liberty, Join CJP

सिटीज़न्स फॉर जस्टिस एंड पीस(CJP) एक मानवाधिकार आंदोलन है जो सभी भारतीयों की स्वतंत्रता और संवैधानिक अधिकारों को कायम रखने और बचाव करने के लिए समर्पित है. हम अपने कार्य के मुख्य क्षेत्रों को अपने चार स्तम्भ कहते हैं. वे हैं:

अल्पसंख्यकों के अधिकार - धार्मिक, जातीय, लैंगिक और यौनिक अल्पसंख्यकों के साथ-साथ विकलांग व्यक्तियों के अधिकार.

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता - एक स्वस्थ और जीवंत लोकतंत्र हमेशा स्वतंत्र अभिव्यक्ति और विभिन्न विश्वास प्रणालियों, संस्कृतियों और भाषाओं की गरिमा का सम्मान करता है. हमारा मानना है कि नफरत उकसाने वाले भाषण, इस आजादी का दुरुपयोग करते हैं.

आपराधिक न्याय सुधार - CJP का मानना है कि हमारी एजेंसियां - जांच, अभियोजन पक्ष और न्यायिक गुणवत्ता बढ़ाने के लिए और त्वरित न्याय वितरण को सुनिश्चित करने के लिए और लोकतांत्रिक होने की आवश्यकता है.

बाल अधिकार - CJP शुरुआत से ही बहुलवाद और संवैधानिक मूल्यों को प्रोत्साहित करने के लिए काम करता आ रहा है. हम किशोर न्याय सुधार और यौन उत्पीड़न से बच्चों की सुरक्षा के क्षेत्र में भी काम करते हैं.

CJP की उपलब्धियाँ

2017-2018 में पुलिस पारदर्शिता और उत्तरदायित्व को सुनिश्चित करने के लिए कानूनी अभियानों के साथ-साथ नागरिकों के हस्तक्षेप करने में CJP ने अहम भूमिका निभाई, वो भी जब कमजोर समुदाय खतरे में हैं. उनकी कुछ उपलब्धियों का वर्णन नीचे किया गया है:

  • CJP ने दलित नेता चंद्रशेखर आज़ाद ‘रावण’पर लगायी रासुका के प्रतिरोध और आज़ादी की मांग करते हुए एक अभियान शुरू किया है.वो जून 2017 से जेल में हैं.CJP ने हाल ही में भीम आर्मी के पदाधिकारियों और उनके वकीलों से इलाहाबाद में परामर्श किया है.हमारे द्वारा बनाया गया विडियो जनता के बीच चेतना लाने का काम कर रहा है, साथ ही, change.org पर हमारे द्वारा प्रेषित याचिका ने हजारों की तादाद में हस्ताक्षर जुटाए हैं.
  • ऑल इंडिया यूनियन ऑफ फ़ॉरेस्ट वर्किंग पिपल्स (एआईयूएफडब्ल्यूपी) के साथ CJP ने सोनभद्र में आदिवासी मानवाधिकार रक्षकों (एचआरडी)के खिलाफ झूठे मामलों के खिलाफ लडाई छेड़ी है. हम अपने वकीलों की टीम के साथ उनपर लगाये झूठे मामलों को ख़त्म करवाने की कोशिश में लगे हुए हैं ताकि उनकी भूमि, पानी और जंगलों को पूंजीवादी हितों से बचाया जा सके.CJP सोनभद्र में जमीन पर उनके साथ मिलकर काम कर रही है, साक्ष्य और ऑडियो विजुअल प्रशस्तियाँ इकट्ठा कर रही है, साथ ही साथ उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ वकीलों के साथ इस मामले को इलाहाबाद उच्च न्यायालय में ले जाने का लक्ष्य है. इन मामलों को शीघ्र ही दायर किया जाएगा.
  • भीमा कोरेगांव में दलितों के खिलाफ हिंसा हुई और उसके बाद महाराष्ट्र भर में बंद के दौरान पुलिस द्वारा चलाये गए काम्बिंग ऑपरेशन जिसमें दलितों को निशाना बनाया गया, ऐसे में CJP ने उनकी मदद के लिए काम किये:
    • पूरे महाराष्ट्र के दलित परिवारों से बात करके सबूत इकट्ठा किये हैं.
    • वरिष्ठ वकील मिहिर देसाई से परामर्श के लिए विभिन्न कार्यकर्ताओं और दलित समूहों को एक साथ लाने के लिए काम किया है
    • CJP ने भी जिग्नेश मेवानी और उमर खालिद को भीमा कोरेगाँव मामले में उनके खिलाफ दुर्भावनापूर्ण प्राथमिकी रद्द करने के लिए बॉम्बे हाईसी में याचिका दायर करने में मदद की है. दोनों युवा नेताओं पर हिंसा भड़काने का झूठा आरोप लगाया गया था.
  • CJP, श्याम बेनेगल, अपर्णा सेन और आनंद पटवर्धन सहित 32 प्रतिष्ठित भारतीयों ने अयोध्या विवाद के मामले में एक हस्तक्षेप याचिका दायर की, जिसमें सर्वोच्च न्यायालय से मामले को किसी भूमि के विवाद की तरह नहीं देखने की अपील की है बल्कि एक धर्मनिरपेक्ष समाधान खोजने के लिए अनुरोध किया ताकि स्थिरता और शांति सुनिश्चित की जा सके. यद्यपि हमारी याचिका रद्द कर दी गई थी, तब भी हम जमीन में शांति की स्थापना करने का प्रयास जारी रखेंगे. CJP सुप्रीम कोर्ट में रिट याचिका के माध्यम से इस ज़रूरी मुद्दे में हस्तक्षेप कर सकती है.
  • CCJP ने फरवरी 2018 में अयोध्या से शुरू हुई वक्र और सांप्रदायिक रथ यात्रा के खिलाफ शांतिपूर्ण ढंग से विरोध करने का आह्वान किया है. 41 दिन की इस यात्रा का मकसद भारत को साम्प्रदायिक तत्वों में बांटकर राम मंदिर के निर्माण के लिए समर्थन जुटाना है. अयोध्या में सामाजिक शांति और सामंजस्य के लिए अपील करते हुए CJP ने ज़मीनी लोगों को इस यात्रा के खिलाफ हर मार्ग पर विरोध करने के लिए अपील की है.
  • ओडिशा हाईकोर्ट और संभवतः सर्वोच्च न्यायलय में गढ़े हुए झूठे मामलों के खिलाफ़ CJP पोस्को प्रतिरोध संग्राम समिति की सहायता कर रही है. CJP ने न सिर्फ ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक को एक खुला पत्र लिखा है, बल्कि इन कमजोर समुदायों के पक्ष में समर्थनजुटाने के लिए एक ऑनलाइन अभियान भी चलाया है.
  • CJP ने नफरत से भरे भाषण के खिलाफ एक देशव्यापी अभियान शुरू किया है. ईमानदार नागरिकों के व्यापक नेटवर्क के बारे में जानकारी देते हुए हमने घृणित भाषण के सबूत इकट्ठा करने में कामयाबी हासिल की है और तुरंत उन्हें प्रशासन के संज्ञान में लाया जा रहा है, जैसे कि उत्तर प्रदेश के कासगंज और अमरोहा के मामले में, जहां हमने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) को हस्तक्षेप करने के लिए अपील की है. मुख्य रूप से हमारे द्वारा एकत्र किए गए ज़मीनी प्रमाण स्पष्ट रूप से मुख्यधारा के मीडिया द्वारा किए गए दुर्भावनापूर्ण रिपोर्ट से विपरीत होते हैं.

CJP की अन्य गतिविधियां

कार्यशालाएं और प्रशिक्षण सत्र: CJP मीडिया के छात्रों, कार्यकर्ताओं और कानूनी चिकित्सकों और शिक्षकों को सशक्त तरीके से तथ्यों को खोजने के मिशन में लाने और उनके निष्कर्षों को दस्तावेज बनाने के लिए विभिन्न कार्यशालाओं का आयोजन करता है. हम संवैधानिक मूल्यों, बहुलवाद, इतिहास और सामाजिक विज्ञान में भी शिक्षक प्रशिक्षण कार्यशालाओं का आयोजन करते हैं.

CJP द्वारा संचालित कार्यशालाओं की श्रृंखला,जिनमें नकली समाचार को कैसे पहचाने और रोकने के विषय में अवगत कराया जाता है,चेन्नई, मैंगलोर, मुंबई और वाराणसी जैसे विभिन्न स्थानों पर आयोजित की जा रहीं हैं. फरवरी 2018 में वाराणसी के महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में हुई कार्यशाला ने दक्षिणपंथी अतिवादियों को दहला दिया. उन्होंने न केवल हमें धमकी दी बल्कि CJP सचिव तीस्ता सेतलवाड़ का घेराव भी किया और हमें कार्यशाला आयोजित करने से रोकने की कोशिश की, जिसका मकसद उनके प्रचार प्रसार का पर्दाफाश करना था. कार्यशाला आखिरकार दूसरे स्थल पर आयोजित की गयी.

कानूनी और सामुदायिक संसाधन:

संवैधानिक मूल्यों के रक्षकों को सहायता प्रदान करने की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, CJP ने व्यापक कानूनी और सामुदायिक संसाधनों को एक साथ रखा है, जो लिंग, जाति और बाल अधिकारों के मुद्दों को व्यापक रूप से संबोधित करते हैं.

CJP की अन्य पहलुओं के बारे में पढ़ें

CJP के प्रभाव के बारे में पढ़ें

किसी भी जानकारी के लिए कृपया [email protected] पर लिखें

Go to Top