Menu

Citizens for Justice and Peace

Adivasi

कैमूर फायरिंग: फैक्ट-फाइंडिंग रिपोर्ट जारी हुई आदिवासियों पर गोली चलाने पर न्यायिक जांच की मांग, दोषी अधिकारियों पर मुकदमा चलाया जाए और झूठे केस रद्द किए जाएँ

23 अक्टूबर को, सीपीआई (एम) की पोलित ब्यूरो सदस्य और आदिवासी अधिकार राष्ट्रीय मंच की उपाध्यक्ष, बृंदा करात ने, कैमूर में बिहार पुलिस द्वारा आदिवासियों पर गोलीबारी पर एक फैक्ट-फाइंडिंग रिपोर्ट जारी की। 11 सितंबर को जब स्थानीय आदिवासी अधौरा में शांतिपूर्ण धरना दे रहे थे, तब गोलीबारी की गई थी। ऑल इंडिया यूनियन ऑफ फॉरेस्ट वर्किंग पीपल (AIUFWP), सिटिज़न्स फॉर जस्टिस…

Why did Bihar police open fire on Kaimur Adivasis? Findings of report co-published by AIUFWP, CJP and DSG

On October 23, Brinda Karat, Polit Bureau member of the CPI(M) and Vice President of Adivasi Adhikar Rashtriya Manch, released a fact-finding report on the firing on Adivasis by Bihar Police in Kaimur. The firing had taken place on September 11, when the Adivasis were holding a peaceful sit-in protest in Adhaura. The report co-published…

Judicial probe cry into firing on tribals The Telegraph

Bihar police had reportedly fired at peaceful Adivasi protesters at Adhaura block, injured seven activists, lathicharged them and then picked them up on ‘trumped-up charges’ The All India Union of Forest Working People, Citizens for Justice & Peace and the Delhi Solidarity Group had sent a fact-finding team to probe the incident and the report…

Bihar Cops Open Fire on Kaimur Adivasis Demanding Forest Rights thecitizen.in

When Suvash Singh – hailing from Kharwar Adivasi Community of Kaimur District in Bihar – helped in mobilising thousands of tribals on September 11, 2020 against the Forest Department officials, little did he know what lay ahead. Along with teaching Philosophy at a State College in Darbhanga, Suvash had been vociferously fighting for the Rights…

Kaimur Firing: Fact-finding report released Demand for judicial inquiry into firing on Adivasis, prosecution of officials, and quashing of false cases

The firing by the Bihar police on peacefully protesting Adivasis in Adhaura Block, Kaimur District on September 11 led a four-member team from New Delhi to conduct a detailed fact-finding around the incident. The findings of the detailed report, co-published by CJP, were released in an online press conference on Friday, October 23 by Ms…

Covid-19 and Adivasi Empowerment: CJP’s unique contribution How have eight months of the Lockdown impacted India’s Forest Dwellers & Adivasis?

During the nationwide Lockdown that was announced in wake of the Covid-19 pandemic, CJP found that hunger that had gripped urban India escaped our communities living in the forest as they continued their cultivation and had some measure of control over the resources and minor forest produce. We at CJP with our partners the All…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण सामुदायिक दावे और इन्हें दायर करने के अलग अलग चरण

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह वीडियो, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA दो हज़ार छे को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। इस…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण भाग ३ सामुदायिक दावे और इन्हें दायर करने के अलग अलग चरण

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह पॉडकास्ट, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA दो हज़ार छे को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। भाग…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण भाग २ पॉडकास्ट में समझें संविधान और वन अधिकार

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह पॉडकास्ट, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA 2006 को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। भाग दो में जानी…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण भाग १ पॉडकास्ट में सुनिए FRA क़ानून बनाने की पृष्ठभूमि

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह पॉडकास्ट, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA 2006 को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। भाग एक में सुनिए…

This is the land of our ancestors: Adivasi man writes to CJP Bihar man recounts abuse inflicted by Forest Department

“We are fighting the Forest Department for our right to the water, the forests and the land. We say that all of this [forests] is ours and shall remain ours. This forest is our livelihood. This is our ancestor’s land. We have been living here forever,” said 65-year-old Adivasi, Ram Surat Singh. However, the frustrated…

जल, जंगल, जमीन हमारा था, है और हमारा ही रहेगा – राम सूरत सिंह बुजुर्ग आदिवासी की जुबानी, वन विभाग के उत्पीड़न की कहानी

आदिवासी अपनी जल, जंगल जमीन को बचाने की जद्दोजहद में निरंतर जुटे हैं। बिहार के अधौरा के बरडीह गांव निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग आदिवासी राम सूरत सिंह ने अपनी पीड़ा CJP के साथ शेयर की है। इस दौरान उन्होंने बड़े ही मार्मिक तरीके से बताया कि वे अपनी आजीविका चलाने के लिए किस तरह का…

Legal muscle to defend Forest Rights Day 2 of CJP webinar sheds light on laws and their implementation

Day 2 of the CJP webinar titled Forest Rights Movement and Covid-19 saw a more in-depth discussion on the law and how its lax implementation had left millions of forest dwellers vulnerable. The webinar started with a beautiful song by the Adivasi women from Tharu tribe of Lakhimpur Kheri district of Uttar Pradesh about the struggle of the villagers of Kajaria.…

आवाम और ग्राम सभा का सशक्तिकरण इस टूलकिट का उद्देश्य समुदाय का वनों पर स्व-शासन के संवैधानिक अधिकार को मज़बूत करना है।

गांधी जयंती के दिन ग्राम सभा प्रस्ताव लिखने के लिए हम एक टूलकिट “आवाम की सत्ता, ग्राम सभा  की सत्ता” जारी कर रहे हैं। गांधीजी ने कहा था – “स्वतंत्रता, शक्ति और आत्मनिर्भरता से आती है”। यहां ‘आत्मनिर्भरता’ का मतलब हाशिए पर रह रहे लोगों का शोषण कर व्यवसायों और पूँजी के हितों को बढ़ावा देना नहीं…

CJP-AIUFWP move NHRC against firing on peaceful Adivasi protesters in Kaimur Many protesters were also arrested, their demands fell on deaf ears

In a shocking display of impunity and abuse of power, the Bihar Police fired at and wrongfully arrested Adivasi activists of Kaimur Mukti Morcha on September 11, 2020 during a sit-in demonstration demanding land, forest and water in Kaimur. Now, CJP and the All India Union of Forest Working People (AIUFWP) have brought to the…

Go to Top