Menu

Citizens for Justice and Peace

Uttar Pradesh

Adivasis in Chandauli, UP file Community Resource rights claims to Forest Land SDM caught unaware of FRA, 2006 as villagers brave adverse weather to file claims

On June 29, 2018, more than one thousand Adivasi people from 8 Gram Sabhas (GSs) in Chandauli district of UP filed community resource rights claims to forest land under Forest Rights Act (FRA), 2006 at District Magistrate’s office. This is a huge step given how these communities are being repeatedly targeted by police and other…

जेल से लौट कर खुल कर बोली ऋचा सिंह ऋचा सिंह से CJP ने बातचीत की

१९ जून को इलाहबाद में उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग की परीक्षा में भारी गड़बड़ी के बाद वहां आये नौजवान प्रार्थीओं ने भारी आक्रोश जताया। पर ना सिर्फ उनके मांगो को नज़रअंदाज़ किया गया, उनपर बबर्रता से पुलिस हमला भी हुआ और उनके साथ खड़े होने आयी छात्र नेता ऋचा सिंह को, उप्र प्रशासन ने…

Adivasi Forest Movement leader Sukalo arrested
Police Brutality against UP Adivasis

Police Brutality against UP Adivasis: NHRC assures action after CJP intervention DM Sonbhadra asked to submit report within three weeks

The National Commission for Human Rights (NHRC) has ordered the District Magistrate (DM) of Sonbhadra to conduct a probe into the incident of police brutality in which several women, children and others were attacked on May 18. They were beaten up after they staked claim to forest land under Forest Rights Act (FRA) 2006, Uttar Pradesh. On…

AIUFWP urges Sonebhadra DM to investigate harassment of Adivasi women Demands immediate implementation of Forest Rights Act

Two incidents of violation of fundamental freedoms of Adivasi Forest workers took place recently in Sonebhadra, UP. One on May 18, in which as many as 12 Adivasi women from Lilasi village, Dudhi were seemingly falsely accused of cutting trees, and hence taken to the Nevarpur thana and harassed throughout the day by police. Another on May 22, when…

Freedom of ravan

A Legal History of NSA: Independent India’s version of the draconian Rowlatt Act UP govt imposing NSA on more Bhim Army Activists after Chandrashekhar Azad Ravan

The National Security Act (NSA) has several draconian provisions, many of which are being increasingly used to incarcerate human rights defenders across India. Here’s a brief history of how the NSA came into being and how it is being increasingly used against to target Dalit leaders and activists in the state of Uttar Pradesh. Soon after the…

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी पर हमला : कुछ सवाल क्या किसी लोकतांत्रिक देश में पुलिस का इस तरह से पक्षपाती होना उचित है?

पिछले कुछ दिनों से अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में जिन्नाह की तस्वीर को लेकर बवाल मचा हुआ है. ऐसा कहा जा रहा है की राष्ट्रवादियो और AMU के छात्रों के बीच टकराव हुआ – सच असल में क्या है, इस विडियो में देखिये   Related Articles: CJP Questions AMU Violence Struggle not for Jinnah but against…

Ensure Justice in Kasganj

कासगंज का सच CJP ने की राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग से तथ्य ढूँढने की फ़रियाद

क्या है कासगंज के दंगे से पहले रची गई साजिश से लेकर दंगे के बाद तक की सच्चाई, जिसे छुपाने का षड्यंत्र रचा जा रहा है? CJP ने राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग से फ़रियाद की है कि फेसबुक पोस्ट और विडियो की फॉरेंसिक जांच हो ताकि तथ्य सामने आयें, और कासगंज दंगाइयों को सजा मिले…

नफ़रत से प्रेरित अपराध के विरुद्ध आवाज़ उठाइए : तीस्ता सेतलवाड़

आज भारत में मुसलमानों और दलितों के खिलाफ नफरत से प्रेरित अपराध तेज़ी से फैल रहे हैं, यह नफरत फैलाने वाले संगठनो की घिनौनी राजनीती का परिणाम है, और इन अनुसंघित संगठनों के नेता शक्तिशाली संवैधानिक पदों पर बैठे हैं!

Go to Top