Menu

Citizens for Justice and Peace

Chandrashekhar Azad Ravan

The Rise of Ravan A Timeline depicting how Chandrashekhar Azad became a force to reckon with

On September 14, 2018, after spending over 15 months behind bars, Dalit leader Chandrashekar Azad ‘Ravan’ was finally released from prison shortly after 2 in the morning. Azad who had been accused of instigating the violence during the Dalit-Thakur caste clashes that took place in Saharanpur in Uttar Pradesh in May 2017, had been booked…

रावण हुआ आज़ाद – भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद हुए जेल से रिहा सर्वोच्च न्यायलय में याचिका दाखिल करने के ठीक एक महीने बाद, आधी रात को मिली आज़ादी

8 जून 2017 को हिमाचल प्रदेश से गिरफ़्तार भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आज़ाद ‘रावण’ और उनके दो साथियों को तय तिथि से पहले ही बीती रात तकरीबन पौने तीन बजे जेल से रिहा कर दिया गया है. हालाकि नवम्बर २०१७ में उन्हें २० से भी ज्यादा मामलों में अलाहाबाद उच्च न्यायलय ने बेल दे दी…

A Legal History of NSA: Independent India’s version of the draconian Rowlatt Act UP govt imposing NSA on more Bhim Army Activists after Chandrashekhar Azad Ravan

The National Security Act (NSA) has several draconian provisions, many of which are being increasingly used to incarcerate human rights defenders across India. Here’s a brief history of how the NSA came into being and how it is being increasingly used against to target Dalit leaders and activists in the state of Uttar Pradesh. Soon after the…

Caging the Dalit Tiger: UP govt extends Chandrashekhar Azad’s detention under NSA by 3 months State keeps finding reasons to keep the young Human Rights Defender behind bars

Bhim Army Chief Chandrashekhar Azad’s ordeals are far from over. The flamboyant Dalit rights activist, who goes by the monicker ‘Ravan’ in defiance of a god-fearing hegemonic society, has been behind bars since June 2017 and is unlikely to get out any time soon courtesy the Uttar Pradesh government. On May 2, the Adityanath administration…

Amir Rizvi

अपने सिद्धांतों पर समझौता करने से पहले, मरना पसंद करूंगा: चंद्रशेखर आज़ाद ‘रावण’ मानवाधिकार रक्षक की रूपरेखा

चंद्रशेखर आज़ाद एक जुझारू दलित युवा नेता हैं, जिन्हें जून 2017 से अवैध तरीके से जेल की सलाखों के पीछे बंदी बना कर रखा गया है. उन्होंने सामाजिक परिवेश में हिन्दुओं की ऊँची जाति के भगवान से डरने वालों को पुरस्कृत करती प्रथा के खिलाफ जाकर ‘रावण’ के उपनाम को धारण किया. पिछले कुछ सालों…

चंद्रशेखर आज़ाद को रिहा करो अभी इस याचिका पर हस्ताक्षर करें

भीम सेना प्रमुख, चंद्रशेखर आज़ाद की रिहाई और उनके खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका या NSA) के आरोपों को खारिज करने के लिये CJP ने उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ के नाम एक याचिका तैयार की है. हमने उनसे अनुरोध किया है कि वे जल्द से जल्द चंद्रशेखर आज़ाद को जेल से रिहा…

सत्ता के रथ तले रौंदा जा रहा है न्याय झूठे अभियोगों के जाल में मानव अधिकार के रक्षकों को फंसाया जा रहा है

अपने आलोचकों और मानवाधिकार रक्षकों (HRDs) को चुप कराने के लिए सरकार अक्सर अपने संस्थान, तंत्र और कानूनी प्रावधान का उपयोग करती है. निम्नलिखित कुछ मामले हैं, जहां राज्य ने HRDs को परेशान करने के लिए झूठे, नकली या दुर्भावनापूर्ण आरोपों का इस्तेमाल किया है या उन्हें खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए एक छोर से दूसरे छोर…

Vinay Ratan Singh Surrenders in Style Police Gaffes continue as Bhim Army Chief presents himself before Saharanpur court

Bhim Army National President Vinay Ratan Singh surrendered before the Chief Judicial Magistrate in Saharanpur on Monday, April 23, 2018. Singh, 35 has been accused of involvement in the Saharanpur caste clashes in May 2017. He was remanded to judicial custody, but not before drama and police confusion that has come to be associated with this case.…

दलितों की दशा और देश की दिशा भीम आर्मी के विनय रतन से तीस्ता सेतलवाड की बातचीत

देश के कोने कोने में आज भी दलितों पर अत्याचार हो रहा है. उनकी आवाज़ को दबाए रखने की कोशिश में उनके नेताओं को जेल में कैद किया जा रहा है. उत्तर प्रदेश में युवा दलित नेता चंद्रशेखर आज़ाद उर्फ़ रावण को जून २०१७ में सहारनपुर में दंगे भड़काने के जुर्म में गिरफ़्तार किया गया…

Chandrashekhar Azad ‘Ravan’ on Hunger Strike in Prison Protesting false cases on Dalits after Bharat Bandh

Dalit Rights Activist Chandrashekhar Azaad “Ravan” has started a staggered hunger strike at Saharanpur District Jail demanding amnesty for those facing cases for participating in Bharat Bandh, an all India strike of Dalit and progressive groups on April 2, 2018. Azad, who has been incarcerated since June 2017 on seemingly fabricated criminal cases as well as under…

Go to Top