Menu

Citizens for Justice and Peace

आरे कॉलोनी में आदिवासियों को जीने के लिए जरूरी मूलभूत अधिकारों से वंचित रखा गया है: प्रकाश बोइर Aarey Forest

21, Oct 2019 | CJP Team

मुंबई के आरे जंगल को मेट्रो प्रोजेक्ट के लिए काटा जा रहा है। सरकार ने तमाम नियम कानूनों को दरकिनार करते हुए हाल ही में पेड़ों की कटाई रात में करा दी थी। इस मामले को लेकर आरे में रहने वाले लोग ही नहीं बल्कि मुंबईकर भी विरोध कर रहे हैं। इस मामले पर वरिष्ठ पत्रकार तीस्ता सीतलवाड ने आरे कॉलोनी में रहने वाले एक्टिविस्ट प्रकाश बोइर से बात की। इस दौरान प्रकाश ने बताया कि सरकार कहती है कि मुंबई में आदिवासी नहीं हैं लेकिन आरे सहित कई जगह आदिवासी रहते हैं और अपनी विरासत को संभाले हुए हैं। उन्होंने कहा कि आदिवासियों को ऐहसान के तौर पर पानी उपलब्ध कराया जाता है औऱ कई इलाकों में बिजली नहीं है। उन्होंने कहा कि मोदी जी स्वच्छ भारत की बात करते हैं लेकिन वहां कई इलाकों में एक भी शौचालय नहीं है।

Related:

Aarey! What’s going on?

Aarey: Mumbai’s struggle to save its lungs

Inside Aarey: Where the Adivasis are fighting another battle

How Adivasis in Aarey are at risk of losing their land and livelihood

Meet this Lover of the Aarey Forest, Prakash Bhoir

In Pictures: A Walk Through Aarey

The Mystery of the Aarey Fire and the Need for a Citizens’ Inquiry

Banjar Zameen: A Prayer to Save Aarey

Aarey Adivasi’s Roar at Public Hearing

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Go to Top