Menu

Citizens for Justice and Peace

forest dwellers

How can you ever ‘resettle’ an ancient way of life? Resettlement not always constructive rehabilitation, forest dwellers face the loss of identity

CJP Fellow Mohammed Meer Hamza travels to the resettlement area of Gendikhata, in Uttarakhand, and meets a rehabilitated Van Gujjar, and learns that resettlement does not always mean constructive rehabilitation for forest dwellers, who now face the loss of identity. The rehabilitation of Uttarakhand’s Van Gujjar families from Rajaji National Park to Gendikhata, is not…

In pictures: Adivasi women file land claims under FRA in Chitrakoot AIUFWP and CJP showcase how history was made one step at a time

On March 23, the day celebrated commemorated nationwide as a tribute to martyrs Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev, who redefined the revolutionary struggle for Indian independence, the All India Union of Forest Working People (AIUFWP), assisted by Citizens for Justice and Peace (CJP), has achieved a historic milestone. In our endeavour to support the recognition…

Forest Land Claims filed in Chitrakoot: AIUFWP and CJP make history! Claims filed for eight villages, 10 more in the pipeline

Rights of Adivasis and forest-dwelling communities have always been a key focus area for both, Citizens for Justice and Peace (CJP) and our partner organisation All India Union of Forest Working People (AIUFWP). We have been supporting these communities, especially their women grassroots leaders, navigate the complex labyrinth of bureaucracy and stake legal claim to…

AIFWP activist protest farm laws

Hundreds Of Adivasi Activists Gather To Protest Against Farm Laws CJP stands with AIUFWP and the forest dwellers

Watch: This CJP exclusive video where numerous Adivasis, forest dwelling activists and AIUFWP leaders gather to protest against the Agriculture laws. The forest dwelling farmers have been regularly harassed by the forest department, their farmlands have been dug out and the women have been severely assaulted. The AIUFWP activists have joined their movement against the…

सूरमा ने दिखाई राह 15 थारू गांवों के सामुदायिक अधिकारों के मिलने का रास्ता हुआ साफ

‘सतत संघर्ष के बल पर मुश्किल से मुश्किल और बड़ी से बड़ी लड़ाई को आसानी से जीता जा सकता है’। लखीमपुर खीरी पलिया कलां के दुधवा टाईगर रिजर्व से लगे गांवों के थारू आदिवासियों ने यह कहावत एक बार फिर सोलह आनै सच साबित कर दिखाई हैं। जी हां, करीब 9 साल पहले 2011 में…

Covid-19 and Adivasi Empowerment: CJP’s unique contribution How have eight months of the Lockdown impacted India’s Forest Dwellers & Adivasis?

During the nationwide Lockdown that was announced in wake of the Covid-19 pandemic, CJP found that hunger that had gripped urban India escaped our communities living in the forest as they continued their cultivation and had some measure of control over the resources and minor forest produce. We at CJP with our partners the All…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण सामुदायिक दावे और इन्हें दायर करने के अलग अलग चरण

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह वीडियो, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA दो हज़ार छे को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। इस…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण भाग ३ सामुदायिक दावे और इन्हें दायर करने के अलग अलग चरण

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह पॉडकास्ट, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA दो हज़ार छे को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। भाग…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण भाग २ पॉडकास्ट में समझें संविधान और वन अधिकार

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह पॉडकास्ट, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA 2006 को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। भाग दो में जानी…

वनाधिकार क़ानून २००६ प्रशिक्षण भाग १ पॉडकास्ट में सुनिए FRA क़ानून बनाने की पृष्ठभूमि

CJP और AIUFWP द्वारा प्रस्तुत, यह पॉडकास्ट, वन अधिकार अधिनियम प्रशिक्षण के लिए है। इसका उद्देश्य वन श्रमिकों को और जमीनी स्तर पर वनाधिकार के लिए काम करने वालों को, सामुदायिक दावों के बारे में जानकारी देना है, ताकि FRA 2006 को प्रभावी ढंग से पूरे देश में लागू किया जा सके। भाग एक में सुनिए…

Go to Top