Menu

Citizens for Justice and Peace

Top story

Sonbhadra Adivasis

Countering All Allegations CJP Places All Facts on Record

CJP Secretary Teesta Setalvad has been constantly targeted by a vindictive state using false cases, intimidation tactics and a vicious media campaign. This witch hunt is how they are punishing her for daring to speak up against the powerful perpetrators of the 2002 Gujarat genocide. Now, we would like to set the record straight and…

असम में राष्ट्रिय नागरिक रजिस्टर के कारण फैला मानवीय संकट घोषित विदेशियों के परिवार वालों के नाम रखे जा सकते हैं NRC से बाहर

एक धूर्त साज़िश के तहत, राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) ने एक नया आदेश जारी किया है, जिसके कारण 2 लाख से अधिक भारतीयों के नाम नागरिकों के रजिस्टर से हटा दिए जा सकते हैं. NRC, असम में रहने वाले ‘वैध’ भारतीय नागरिकों का एक रिकॉर्ड है, और उसे 1951 के बाद पहली बार उद्दिनांकित किया जा…

Nevertheless, she persisted How Teesta Setalvad's perseverance in Gujarat riot cases has rattled a vindictive regime

CJP has been at the forefront of the struggle for justice in multiple Gujarat riots related cases including Naroda Patiya, Ode Massacre, Sardarpura, Gulberg Society etc. We have fought these battles in the courts and beyond. As a result of this CJP Secretary and internationally acclaimed Human Rights Defender, Teesta Setalvad, has constantly been in…

ओड नरसंहार : गुजरात हाईकोर्ट ने 19 लोगों की सज़ा रखी बरकरार 1 मार्च, 2002 को गुजरात दंगों के दौरान आनंद ज़िले में 23 लोगों को जिंदा जला दिया गया था

गुजरात हाई कोर्ट की खंडपीठ ने ओड दंगे में दोषी पाए गए 19 लोगों की सज़ा बरकरार रखी है. गुजरात के आनंद जिले में ओड नाम के स्थान पर मुसलमान विरोधी हिंसा के चलते 23 लोगों को ज़िंदा जला दिया गया था. यह घटना गोधरा ट्रेन के जलने के ठीक दो दिन बाद, 1 मार्च, 2002…

Gujarat Riots

कठुआ के बकरवाल समुदाय के उत्थान हेतु वन अधिकार कानून आवश्यक : तालिब हुसैन विशेष संवाद में युवा वकील-कार्यकर्ता ने हमें बताए कमजोर खानाबदोश समुदाय को सशक्त बनाने के उपाय

क्या जम्मू के जंगलों से बकरवाल समुदाय को जानबूझकर अलग रखना अंतर्निहित कारकों में से एक हो सकता है, जो कठुआ में एक नन्ही बच्ची के क्रूर बलात्कार और हत्या का कारण बन गया? तेजतर्रार वकील और कार्यकर्ता तालिब हुसैन, जो बच्ची के लिए न्याय के संघर्ष में सबसे आगे हैं, वन्य अधिकार अधिनियम, 2006…

Go to Top