हेट बस्टर: नहीं! मुस्लिमों के रेस्टोरेंट के खाने से नपुंसकता नहीं होती केरल के एक राजनेता ने दावा किया था कि मुस्लिम रेस्तरां नपुंसकता की दवाओं वाली चाय परोस रहे हैं!

20, May 2022 | CJP Team

दावा: केरल के राजनेता पीसी जॉर्ज ने दावा किया था कि मुस्लिम संचालित रेस्तरां ‘दवा’ वाली चाय परोस रहे हैं जिससे नपुंसकता होती है।


पर्दाफाश: यह दावा केवल व्हाट्सएप यूनिवर्सिटी में पढ़ाया जाता है और जिसके लिए किसी वैज्ञानिक प्रमाण की जरूरत नहीं होती।

इन दिनों दक्षिणपंथी ट्रोल्स द्वारा प्रचारित सांप्रदायिक नफरत को फेक न्यूज के रूप में जाना जाता है। हालांकि, पीसी जॉर्ज, एक अनुभवी राजनीतिज्ञ, छह बार विधान सभा (एमएलए) के सदस्य रहे हैं, और एक बार कांग्रेस के सहयोगी केसी (एम) के सदस्य रहे हैं, वे भी इसी तरह की भाषा बोल रहे हैं।

सीजेपी हेट स्पीच के उदाहरणों को खोजने और प्रकाश में लाने के लिए प्रतिबद्ध है, ताकि इन विषैले विचारों का प्रचार करने वाले कट्टरपंथियों को बेनकाब किया जा सके और उन्हें न्याय के कटघरे में लाया जा सके। हेट स्पीच के खिलाफ हमारे अभियान के बारे में अधिक जानने के लिए, कृपया सदस्य बनें। हमारी पहल का समर्थन करने के लिए, कृपया अभी दान करें!

 इस अभद्र टिप्पणी के तुरंत बाद उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और “आईपीसी की धारा 153 ए के तहत विभिन्न धार्मिक समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने” का आरोप लगाया गया। समाचार रिपोर्टों के अनुसार, उन पर गैर-जमानती अपराध का आरोप लगाया गया था, हालांकि, उन्हें एक मजिस्ट्रेट अदालत ने जमानत दे दी।

ऐसे समय में जबकि 71 वर्षीय राजनेता की हेट स्पीच, गिरफ्तारी और जमानत पर राजनीति जारी है, केरल में गैर-मुसलमानों से मुस्लिम-संचालित रेस्टोरेंट्स का बहिष्कार करने के उनके आह्वान के मकसद का पर्दाफाश करना जरूरी है। पिछले हफ्ते अनंतपुरी हिंदू महासम्मेलन में उन्होंने “नपुंसकता पैदा करने वाली कुछ ड्रॉप्स” का इस्तेमाल करने का हास्यास्पद दावा किया था। समाचार रिपोर्टों में कहा गया है कि उन्होंने दक्षिणपंथियों के पसंदीदा टॉपिक “लव जिहाद” और “मुस्लिम देश की स्थापना के लिए एक एजेंडे” के तहत गैर मुस्लिम पुरुषों और महिलाओं को बांझ बनाए जाने की बात की।

इस तरह के दावे अतीत में कई दक्षिणपंथी ट्रोल्स द्वारा “बिरयानी जिहाद” जैसे शीर्षक के तहत किए गए हैं, जिसमें दावा किया गया था कि तमिलनाडु के कोयंबटूर में एक मुस्लिम दुकान पर बर्थ कंट्रोल वाली बिरयानी बेची जा रही थी।

हालाँकि, जैसा कि कई मेडिकल जर्नल और वेबसाइटें बताती हैं, नपुंसकता, अथवा इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी) “सबसे आम यौन समस्या है जो पुरुष अपने डॉक्टर को रिपोर्ट करते हैं। इससे लगभग 30 मिलियन पुरुष प्रभावित हैं।” Urologyhealth.org के अनुसार, यह “अक्सर तब होता है जब तनाव या भावनात्मक कारणों से; लिंग में रक्त का प्रवाह सीमित होता है या नसों को नुकसान होता है। एथेरोस्क्लेरोसिस (सख्त या अवरुद्ध धमनियां), हृदय रोग, हाई ब्लड प्रेशर या डायबिटीज से हाई ब्लड शुगर इस गंभीर बीमारी की प्रारंभिक चेतावनी है।”

इसलिए, यदि किसी को इरेक्टाइल डिसफंक्शन का अनुभव होता है, तो उन्हें अपने पड़ोस के बिरयानी रेस्तरां को दोष देने के बजाय अपने डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए। दूसरों की जीवन शैली और व्यंजनों को स्वीकार करने के लिए तनाव को दूर करने और स्वस्थ मुकाबला तंत्र विकसित करने के तरीके खोजें। मुस्लिम स्वामित्व वाले रेस्तरां आपको इरेक्टाइल डिसफंक्शन नहीं देते बल्कि, तनाव यह बीमारी देता है।

Feature Image courtesy: Best Price Travel

और पढ़िए –

हेट बस्टर: सांप्रदायिक मीम ने संदिग्ध आंकड़े पेश किए

मुस्लिम महिलाओं को यौन उत्पीड़न की धमकी: कानून कैसे उनकी रक्षा करता है?

मुसलमानों का आर्थिक बहिष्कार! क्या हम एक जेनोसाइड की तरफ बढ़ रहे हैं?

खुद को ज्ञान से सुसज्जित करो न कि त्रिशूल, तलवार या चाकू से

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Go to Top