Menu

Citizens for Justice and Peace

Junaid

ख़ामोश रहना सबसे बड़ा गुनाह है : तीस्ता सेतलवाड़ नफ़रत के खिलाफ़

12 जनवरी 2019 की शाम मुम्बई के सीएसटी इलाके में ‘नफ़रत के ख़िलाफ़ हम सभी की आवाज़’ इस नाम से एक कार्यक्रम का आयोजन इया गया. कार्यक्रम का उद्देश्य इस विषय पर चर्चा करना था कि भारत का धार्मिक अल्पसंख्यक वर्ग इस कदर असुरक्षित क्यों है कि वो कभी देश की राजधानी के प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय…

जुनैद की अम्मी ने कहा, चुप बैठे लोगों पर भी विपत्ति आ सकती है इसलिए आवाज़ उठाना ज़रूरी है नफ़रत के खिलाफ़

16 वर्षीय जुनैद खान, जून महीने में हरियाणा से दिल्ली, ईद की खरीददारी करने आया था, वापस लौटते वक्त ट्रेन में सीट को लेकर शुरू हुए विवाद के बाद भीड़ द्वारा पीट-पीट कर  उसकी ह्त्या कर दी गई और फरीदाबाद के असोटी स्टेशन के पास उसे ट्रेन से बाहर फ़ेंक दिया गया था. 12 जनवरी…

Go to Top