Menu

Citizens for Justice and Peace

Chandrashekar Azad

साहस और सहानुभूति के साथ मज़बूत होता भारत मिलिए उन मानवाधिकार रक्षकों से जो साल 2018 में लाखों लोगों के प्रेरणा स्रोत रहे

देश में एकता, समरसता और सामंजस्य बनाए रखने, संविधान में दिए अधिकारों और आज़ादी को कायम रखने की कोशिशों में, साधारण से नज़र आने वाले कुछ आम भारतीय नागरिकों ने असाधारण साहस और करुणा का परिचय दिया है. यहां कुछ ऐसे ही लोगों का ज़िक्र कर रहे हैं जो मानवाधिकार रक्षक की भूमिका में सभी…

Making India Stronger with Courage and Compassion Meet the Human Rights Defenders who inspired millions in 2018

Ordinary Indian citizens showed exceptional compassion and commitment to maintaining harmony as well as upholding the rights and freedoms guaranteed to all in out Constitution. Their exemplary courage inspires us all. Here’s are some Human Rights Defenders who are a beacon of hope for everyone.   Sokalo Gond Sokalo Gond is an Adivasi forest rights activist…

सत्य और न्याय के लिए हमारी जंग जारी है सचिव की कलम से

ये सफ़र तकरीबन 17 साल पहले शुरू हुआ था. सन 2002 गुजरात में जब नफ़रत की आग भड़काई गई, तो न्याय की उम्मीद लिए हम अदालत पहुंचे, और अदालत के अंदर और बाहर जिरह का सिलसिला शुरू हो गया, यही इस सफ़र की शुरुआत थी. ये अनुभव चुनौतीपूर्ण भी रहा और बेहद अनूठा भी. इसकी अंतर्दृष्टि, मानव अधिकार…

Fighting the Good Fight From the Secretary's Desk

It’s been a nearly 17 year old journey. That began with a determination to negotiate our courts after the hate filled fires that lit Gujarat in 2002. The experience was both unique and challenging, its insights strengthening our resolve to use the learning to forge ahead, within the field of human rights protection, expand and…

नीला रंग चंद्रशेखर आज़ाद से एक मुलाक़ात, विमल जी के शब्दों में

विमल जी, जो जन आंदोलनों का राष्ट्रीय समन्वय के राष्ट्रीय समन्वयक हैं, ने हाल ही में रिहा हुए चंद्रशेखर से मुलाक़ात की. यहाँ पढ़िए उनका दिल को छू लेने वाला ब्यौरा| अचानक 13 -14 सितंबर की रात को 2:30 बजे सहारनपुर जेल से चंद्रशेखर को रिहा कर दिया गया। भीम आर्मी का युवा कोई बहुत लंबी-चौड़ी…

The Rise of Ravan A Timeline depicting how Chandrashekhar Azad became a force to reckon with

On September 14, 2018, after spending over 15 months behind bars, Dalit leader Chandrashekar Azad ‘Ravan’ was finally released from prison shortly after 2 in the morning. Azad who had been accused of instigating the violence during the Dalit-Thakur caste clashes that took place in Saharanpur in Uttar Pradesh in May 2017, had been booked…

How NSA is being used against Human Rights Defenders Dalit leader Chandrashekhar Azad's lawyer Advocate Ravi Kiran explains

The National Security Act (NSA) has several draconian provisions that are being used by the state to scuttle the voices of dissenters. These provisions enable the state to detain people on the grounds of them posing threat to national security. Provisions of the NSA have also been used to perpetuate incarceration of  human rights defenders such…

Go to Top