Menu

Citizens for Justice and Peace

इस नए साल का डर से नहीं हिम्मत से स्वागत करें महिलाएं नए साल की पूर्व संध्या पर यौन उत्पीड़न या हमले के शिकार होने वाली महिलाओं के लिए आसान प्रावधान

31, Dec 2017 | डेबरा ग्रे
#communityresources #feminism

नए साल की शाम अक्सर भारत में महिलाओं के लिए बुरी यादें छोड़ जाती है. हालांकि 2016 में बेंगलुरु में महिलाओं से हुई सामूहिक छेड़छाड़ अभी भी हमारी याददाश्त में ताजा है, मुंबई, जो शहर अपने अपेक्षाकृत सुरक्षित माहौल के लिए जाना जाता है, वहां भी ऐसी घटनाएं हुई थी. भारत में यौन उत्पीड़न और बलात्कार के लिए कानून के विभिन्न खंड लागू हैं, जिन्हें हमने यहां संकलित किया है.  हमने उन चीजों की एक सूची भी संकलित की है जो आप अनुचित यौन संपर्क के मामले में पुलिस शिकायत दर्ज कर सकते हैं.

लेकिन कानूनी सलाह से पहले, कुछ चीजें जानना महत्वपूर्ण है:

1) बलात्कार कभी उत्तरजीवी या पीड़ित की गलती नहीं है – आप किस प्रकार के कपड़े पहनते हैं, आप कैसे बात करते हैं या व्यवहार करते हैं, आपके यौन इतिहास, शराब का पीना, सुंदरता, उम्र, जहां आप जाते हैं, आपके घर के बाहर रहने का समय आदि अप्रासंगिक हैं. 8 महीने के बच्चों का बलात्कार किया जाता है, 8 वर्षीय लड़के और 80 वर्ष की वृद्ध महिला भी बलात्कार के शिकार हो चुके हैं. यौन कार्यकर्ताओं का भी बलात्कार किया जाता है और साध्वी तथा नन का भी. बलात्कार होता है क्योंकि अपराधी जानबूझकर उत्तरजीवी पर हमला करता है. बलात्कार लक्षित, लिंगीय हिंसा है यह रिश्तेदारों के बीच हो सकता है, और एक अजनबी द्वारा भी किया जा सकता है.

2) सर्वोच्च न्यायलय ने दो उंगली परीक्षण को खत्म कर दिया है – सर्वोच्च न्यायालय ने यह आदेश दिया है कि बलात्कार के उत्तरजीवी पर दो उंगलियों का परीक्षण गोपनीयता के अधिकार का उल्लंघन करता है. सर्वोच्च न्यायलय ने सरकार से यौन उत्पीड़न की पुष्टि करने के लिए बेहतर चिकित्सा प्रक्रियाएं प्रदान करने को कहा है. दो उंगली परीक्षण हेमैन की मौजूदगी या अनुपस्थिति और योनि की ढिलाई के निर्धारण के लिए पुरानी विधि है. इस परीक्षा के निष्कर्षों का उपयोग केवल पिछली यौन गतिविधि के लिए उन्हें शर्मिंदा करके उत्तरजीवी को बदनाम करने के लिए किया जाता है. किसी से बलात्कार करने का किसी को भी ‘अधिकार’ नहीं है, चाहे आप एक सेक्स वर्कर ही क्यों न हों. इसके अलावा, किसी डॉक्टर को आपके निजी अंगों में अपनी उंगलियाँ डालने करने का अधिकार नहीं है.

3) बलात्कार आपके ‘सम्मान’ की हानि नहीं है – यह एक शारीरिक और मानसिक हमला है, किसी का सम्मान उनके पैरों के बीच नहीं होता. इस से आपका नहीं, बल्कि हमला करने वाले का सम्मान खोता है. शर्मिंदा तो अपराधी को होना चाहिए और कानून के अनुसार दंडित किया जाना चाहिए, उत्तरजीवी को नहीं.

4) बलात्कार लिंग तटस्थ है – महिला, पुरूष और किन्नर हर लिंग के लोगों के साथ बलात्कार होता है, और हर लिंग के लोग बलात्कार के अपराधी भी हो सकते हैं.

यौन आक्रमण और बलात्कार कानून

भारत में यौन उत्पीड़न और बलात्कार के प्रतिदिन नए उदाहरण सामने आते रहते हैं. भारत में बलात्कार कानून आईपीसी की धारा 375 से शुरू होते हैं, जिसके अनुसार:

एक व्यक्ति को निम्नलिखित छह परिस्थितियों में महिला बलात्कार का अपराधी कहा जाता है:

  1. जबरन संभोग करना.
  2. पीड़ित की सहमति के बिना,
  3. उसकी सहमति के साथ, जब उसकी सहमति उसे या किसी भी व्यक्ति को मृत्यु या चोट के भय में डालने से प्राप्त हुई है
  4. उसकी सहमति के साथ, जब आदमी जानता है कि वह उसका पति नहीं है,
  5. उसकी सहमति के साथ, जब ऐसी सहमति देने के समय वह नशे में थी, या असहायता से पीड़ित है और वह उस कृत का स्वरुप और परिणाम को समझ नहीं पा रही हो जिसके लिए वह सहमति देती है,
  6. जब वह सोलह साल की उम्र से कम हो, तो उसकी सहमति के साथ या बिना उसकी सहमति यौन कृत करना. अनुभाग में स्पष्ट किया गया है कि बलात्कार के अपराध का स्थापित करने के लिए योनी में प्रवेश करना पर्याप्त है, जबकि अपवाद पंद्रह वर्ष की उम्र से विवाहित महिला के इस कानून के अंतर्गत नहीं आती.

तकनीकी और हिरासत में हुए बलात्कार पर लागू कानून के अलग-अलग खंड हैं, फिर भी वैवाहिक बलात्कार के विषय पर अब भी बहस चल रही है कि कैसे एक नाबालिग के साथ तकनीकी रूप से बलात्कार होता है, लेकिन बलात्कार नहीं माना जाता है, अगर नाबालिग अपराधी की पत्नी है की उम्र के 15 साल से ऊपर है

कानून के अन्य प्रासंगिक अनुभागों में शामिल हैं:

अनुभाग 376 (ए) जो न्यायिक रूप से अलग हुए पति द्वारा उसकी सहमति के बिना पत्नी के साथ संभोग को दंडनीय अपराध है.

अनुभाग 376 (बी) जो एक सरकारी कर्मचारी द्वारा हिरासत में एक महिला के साथ संभोग के लिए दंडनीय अपराध मानता है.

अनुभाग 376 (सी) जो जेल के अधीक्षक, रिमांड हाउस आदि द्वारा संभोग को दंडनीय अपराध मानता है जबकि,

अनुभाग 376 (डी) जो उस अस्पताल में किसी भी महिला के साथ अस्पताल के प्रबंधक या कर्मचारी द्वारा संभोग को दंडनीय अपराध मानता है.

अब जब हमने बलात्कार के लिए लागू कानूनों पर चर्चा की है, तो इसी तरह के अपराधों से संबंधित कानूनों पर चर्चा करना महत्वपूर्ण है:

यौन उत्पीड़न है क्या

पहली बार यौन उत्पीड़न स्पष्ट रूप से परिभाषित विशाखा बनाम राजस्थान राज्य 1997 मामले में दिए गए फैसले में किया गया था. तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश जे.एस. वर्मा, एस.वी. मनोहर और बी.एन. किरपाल की पीठ ने एक महत्वपूर्ण फैसला दिया था, जहां यौन उत्पीड़न को परिभाषित किया गया था:

“अपरिचित यौन व्यवहार (चाहे सीधे या निहितार्थ द्वारा) के रूप में:

ए) शारीरिक संपर्क और उसकी ओर आगे बढ़ना;

बी) यौन संपर्क के लिए एक मांग या अनुरोध करना;

सी) यौनिक टिप्पणी करना;

घ) अश्लील साहित्य दिखाना;

ई) यौन प्रकृति के अन्य कोई अवांछित शारीरिक मौखिक या गैर-मौखिक आचरण.”

एक महिला की विनम्रता का उल्लंघन करना

यह कानून का एक आम हिस्सा है जिसके तहत लोगों को छेड़छाड़ और यौन उत्पीड़न के मामले में कसूरवार पाया जाता है, जिसे ‘ईव टीसिंग’ या छेड़खानी के रूप में जाना गया है. भारतीय दंड संहिता की धारा 354 के अनुसार, उसकी विशुद्धता को अपमानित करने के इरादे से महिला पर आक्रमण या आपराधिक बल से संबंधित है.

कोई भी व्यक्ति जो किसी भी महिला पर आपराधिक बल का इस्तेमाल करता है, वह यह जानकर आक्रमण करता है कि वह उसकी विशुद्धता को अपमानित करेगा ऐसे व्यक्ति को दो साल तक की अवधि के कारावास के साथ या जुर्माने या फिर दोनों के साथ दंडित किया जाने का प्रावधान है.

अश्लील कृत्य

उत्पीड़क यदि किसी अश्लील कृत जैसे निजी भाग को दिखाना या सार्वजनिक रूप से हस्तमैथुन करना, ऐसे मामलों में आईपीसी की धारा 294 लागू होती है. इसके अनुसार:

जो व्यक्ति अश्लील कृत के कारण दूसरों को परेशान करते हैं

(ए) किसी भी सार्वजनिक जगह में कोई भी अश्लील कार्य करता है, या

(बी) किसी भी सार्वजनिक जगह में अश्लील गीत, गाथागीत या शब्दों को गाते, पढ़ते या बोलते हैं, उन्हें तीन महीने की अवधि के लिए कारावास या जुर्माने या दोनों के साथ दंडित किया जाएगा .

पुलिस से निपटने के लिए युक्तियाँ

किसी भी प्रकार के यौन उल्लंघन के मामले में, सबसे निकटतम पुलिस स्टेशन को जल्द से जल्द सूचित करना महत्वपूर्ण है. अगर आप अकेले नहीं जाना चाहते हैं, तो अपने साथ एक मित्र, अभिभावक, साथी, परिवार के सदस्य या विश्वसनीय वयस्क को ले सकते हैं. वास्तव में, कानून के मुताबिक उत्तरजीवी, पुलिस स्टेशन पर शारीरिक रूप से उपस्थित हुए बिना भी  बिना शिकायत दर्ज कर सकती/ता है. आपका स्टेटमेंट लेने के लिए पुलिस को आपके स्थान पर आना होगा.

महत्वपूर्ण बात है कि, मुंबई जैसे शहरों में इस मुद्दे पर व्यापक चेतना की वजह से, पुलिस ने “बच्चों और महिला सुरक्षा कक्ष” को ऑनलाइन स्थापित किया है. उदाहरण के लिए, यह लिंक (https://mumbaipolice.maharashtra.gov.in/womensafety.asp) नागरिकों को हिंसा के विरोध में कदम उठाने के लिए लिए सक्षम बनाता है.

उद्धृत करने के लिए, मुंबई पुलिस कहते हैं, “आप के खिलाफ हिंसा आपकी गलती नहीं है हिंसा किसी का अधिकार नहीं है संकोच न करें, मदद के लिए कॉल करने से डरें मत. मुंबई में महिलाओं के खिलाफ अपराध के लिए 24 घंटे के हेल्पलाइन 103 से पर कॉल की जा सकती है और पुलिस कार्रवाई करने के लिए तुरंत पहुच जायेगी. अब कॉल करना आपकी ज़िम्मेदारी है”

प्रत्येक शहर में ऐसा विकल्प होता है, अपराध होने पर इसका उपयोग करना चाहिए. यहां महिलाओं के लिए कुछ हेल्पलाइन नंबर दिए गए हैं

इस तरह के मामलों में साक्ष्य सर्वोपरि है, इसलिए सुनिश्चित करें कि आप अनजाने में या गलती से किसी भी सबूत को छेड़छाड़ या नष्ट न कर दें. निजी भागों को धोया नहीं जाना चाहिए ताकि अपराधी के डीएनए को एकत्र किया जा सके और उन पर मुकदमा चलाने के लिए उनके खिलाफ सबूत के रूप में उपयोग किया जा सके. अंडरवियर सहित सभी कपड़े संरक्षित किए जाने चाहिए और इसी कारण से सबूत के रूप में प्रस्तुत करने से पहले धोया नहीं जाना चाहिए.

यौन उत्पीड़न के मामले में, यदि संभव हो तो अपराधी की तस्वीरें ले लें. लेकिन तस्वीर लेने की कोशिश करते वक्त खुद को खतरे में न डालें. यदि खतरे की स्थिति हो तो जल्दी भागने में ही समझदारी है.

कुछ हेल्पलाइन नंबर

बलात्कार या यौन उत्पीड़न से बचने में मदद करने के लिए, घटना के आघात से उबरने के लिए, एक परामर्शदाता की ज़रुरत होने पर सहायता के लिए यहां कुछ फोन हेल्पलाइन हैं जिनसे वे संपर्क कर सकतीं हैं:

दिलासा, मुंबई

टेलीफोन: +91 22 2640 022 9

समय: 9 बजे से शाम 4 बजे (सोमवार से शुक्रवार)

शनिवार 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक

 

आईकॉल, मुंबई

टेलीफोन: +91 22 2556 3291

सोमवार से शनिवार, 10 बजे से शाम 10 बजे तक

ईमेल: [email protected]

फेसबुक: www.facebook.com/helplineicall

ट्विटर : @iCALLHelpline

 

वांद्रेवाला फाउंडेशन, मुंबई और दिल्ली

टेलीफोन (मुंबई): + 9 1 22 2570 6000

टेलीफोन (दिल्ली): +91 11 6642 99 99

टेलीफोन (अखिल भारतीय): 1 860 266 2345

ईमेल: [email protected]

 

कुछ हालिया विकास

हाल में, नारीवादियों ने जोर देकर कहा है कि ‘पीड़ित’ के बजाय ‘उत्तरजीवी’ शब्द का प्रयोग किया जाना चाहिए. विवाद सिर्फ इसलिए है क्योंकि जिसके के साथ बलात्कार किया गया है, उसे सम्मानपूर्वक जीवन जीना होगा और अंत नहीं माना जाना चाहिए. यदि आप मर नहीं रहे हैं, तो आप एक जीवित व्यक्ति हैं, शिकार नहीं इसके अलावा, हालांकि आम तौर पर महिलाओं को अधिक लक्षित किया जाता हैं, बलात्कार उत्तरजीवी और अपराधी  महिलाएं, पुरुष और किन्नर में से कोई भी लोग हो सकते हैं. इसलिए, बलात्कार के कानूनों को लिंग तटस्थ बनाने के लिए बड़ी मुहीम चलाई जा रही है.

 

*** अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस, मार्च 8, 1914 के लिए एक जर्मन पोस्टर से महिलाओं के अधिकार से प्रेरित है.जर्मनी में इस पोस्टर पर प्रतिबंध लगा दिया गया था. [Plakat für den Frauentag am 8. März 1914]

*** हिंदी अनुवाद – सदाफ़ जाफर

 

Leave a Reply

Go to Top